BEKHUDI BESABAB NAHI GHALIB


बेखुदी बेसबब नहीं ‘ग़ालिब mirja galib shairi
बेखुदी बेसबब नहीं ‘ग़ालिब
फिर उसी बेवफा पे मरते हैं
फिर वही ज़िन्दगी हमारी है
बेखुदी बेसबब नहीं ‘ग़ालिब’
कुछ तो है जिस की पर्दादारी है

Bekhudi besabab nahi "Ghalib"
Fir usi befawa pe marte hain
Fir wahi jindagi hamari hai
Bekhudi besabab nahi "Ghalib"
Kuch to hai jis ki pardadari hai .

Post a comment

0 Comments