Insan ne waqt se pucha

 

 *''इंसान ने वक़्त से पूछा...*
          *"मै हार क्यूं जाता हूँ ?"*
                 *वक़्त ने कहा..*
               *धूप हो या छाँव हो,*
       *काली रात हो या बरसात हो,*
       *चाहे कितने भी बुरे हालात हो,*
         *मै हर वक़्त चलता रहता हूँ,*
          *इसीलिये मैं जीत जाता हूँ,*
                *तू भी मेरे साथ चल,*
             *कभी नहीं हारेगा...........*
    
*आपका दिन शुभ और मँगलमय हो*।

Post a comment

0 Comments