कमब्क्त ये मोहबत भी 
कितनी खुदगर्ज है 
उस से ही होती है जो 
किस्मत में नहीं होता 

Kambakhat ye Mohabat Bhi
Kitini Khudgarz Hai
Us Se hi Hoti Hai Jo
Kismat me Nahi Hota