MIRZA GHALIB SHAYARI-URDU SHAYARI-PAHNAA THA BADAY SHAUKK SE


कागज़ का लिबास mirza ghalib shayari in hindi
कागज़ का लिबास
सबने पहना था बड़े शौक से कागज़ का लिबास
जिस कदर लोग थे बारिश में नहाने वाले
अदल के तुम न हमे आस दिलाओ
क़त्ल हो जाते हैं , ज़ंज़ीर हिलाने वाले

Kagaj ka libas
Sabne pehna tha bade shauk se kagaj ka libas
Jis kadar log the barish me nahane wale
Adal ke tum na hame aas dilao
Katl ho jaate hain , janjeer hilane wale

Post a comment

0 Comments