आह को चाहिए इक उम्र असर होते तक mirza ghalib shayri aah ko chahiye

आह को चाहिए इक उम्र असर होते तक
कौन जीता है तिरी ज़ुल्फ़ के सर होते तक

Aah ko chahiye ek umra asar hote tak
Kaun jita hai teri julf ke sar hote tak