Sabse Mohabbat karne ki-Love Shayari

Sabse mohabbat karne ki


*तेरी तो फितरत थी सबसे मुहब्बत करने की..!!

**हम तो बेवजह खुद को खुशनसीब समझने लगे..!!

Post a comment

0 Comments