shayri.page  shayari

इश्क़ करना तोह लगता है जैसे
मौत से भी बड़ी सजा है
क्या किसी से शिकवा करना
जब अपनी ही तक़दीर बेवफा हो।

Ishq karna Toh Lagat Hai Jaise
Maut se Bhi Badi Saza hai
Kya Kisi se Shikwa Karna
Jab Apni Hi Taqdeer Bewafa Ho