🎋 *मुठ्ठियों में क़ैद हैं जो खुशियाँ*
*वो बांट दो यारो,*

*ये हथेलियां तो इक दिन वैसे भी* 
*खुल ही जानी हैं।*🎋