Chehre pe Muskan lahrati

Chehre pe Muskan lahrati

 चुलबुली-सी हँसी तुम्हारी,

चेहरे पे मुस्कान लहराती है |

बड़ी लगती हो बातों से फिर भी ,

प्यारी-सी बचपना झलक जाती है |

ऐसे ना रहो तुम बिलकुल ही चुप,

तुम्हारी ख़ामोशी रास नहीं आती है |


Post a comment

0 Comments