dosti jindagi ka-shayari in hindi on dosti


shayari in hindi on dosti


दोस्ती ज़िन्दगी का खूबशूरत लम्हा है,
जिसे मिल जाये तन्हाई में भी खुश,
जिसे न मिले भीड़ में भी अकेला.



Post a comment

0 Comments